रूद्रप्रयाग में तैनात तहसीलदार ने दिया पर्यावरण को बचाने का संदेश, तहसीलदार ने कहा नोजवानों को भी लेना चाहिए संकल्प*

Spread the love

(शाहनज़र अली)

रूडकी के मखियाली खुर्द गांव निवासी तहसीलदार मोहम्मद शादाब अपने विवाह के मौके पर भी लोगों को पर्यावरण का संदेश देते नज़र आए। मोहम्मद शादाब वैसे तो उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज़िले में तहसीलदार के पद पर तैनात हैं लेकिन कल कलियर विधायक फुराकांन अहमद की बेटी से उनकी शादी होनी है। जिसके चलते मोहम्मद शादाब अपने गांव में भी पर्यावरण की अलख जगाए हुए हैं। मोहम्मद शादाब अपने गांव में तीन दिन की छुट्टी पर पहुंचे तो वहां भी उन्होंने पर्यावरण को बचाने का संदेश दिया। और गांव में ही अपने आवास पर हरे भरे पौधे लगाते दिखाई दिए। तहसीलदार के पेड़ लगाने की उनके गांव समेत पूरे क्षेत्र में उनकी सराहना हो रही है।इस दौरान तहसीलदार मोहम्मद शादाब ने बताया कि उन्होंने अपने तीन दिवसीय विवाह कार्यक्रम का प्रारम्भ “हमारी स्मृति और पर्यावरण” मुहिम की शुरुआत की है उन्होंने इसका शुभारंभ अपने निवास ग्राम मखियाली खुर्द गांव के अपनी चौपाल के आँगन में वृक्षारोपण करते हुए किया है इस मुहिम का उद्देश्य जनसामान्य में अपने वैवाहिक कार्यक्रमों जैसे शादी-अक़ीक़ा-सगाई-इजलास वगैरह एवं अन्य सामाजिक रीति-रिवाज़ों में पर्यावरण की महत्ता को दृष्टिगत रखते हुए फलदार और छायादार वृक्ष लगाने को बाक़ायदा शादी के कार्ड में शादी की रस्म के तौर पर प्रकाशित कराकर संस्थागत रूप देते हुए स्मृति के तौर पर वृक्षारोपण करना है. तहसीलदार मोहम्म्द शादाब ने उम्मीद जताई कि उनके क्षेत्र के अन्य युवा भी अपने विवाह के बंधन में बंधने से पहले पर्यावरण को बढ़ावा दे और एक पेड़ ज़रूर लगाएं। ताकि निकट भविष्य में इस रस्म को आगे भी लोग अदा करते रहें। उन्होंने कहा कि वो जरूर अपनी यादों को पर्यावरण से जोड़ेंगे.

इस शुभ अवसर पर ग्राम प्रधान और वरिष्ठ समाजसेवी मुहम्मद तालिब, एडवोकेट इस्तखार अहमद, प्रधान मंसूर अली, जुल्फिकार अली, राशिद अली,
इत्यादि ने ग्राम के सार्वजनिक स्थानों जैसे मदरसा, मस्जिद, कब्रिस्तान इत्यादि पर पेड़ फलदार और छायादार पेड़ लगाते हुए उनकी रक्षा एवं क्षेत्र में पर्यावरणीय जागरुकता की प्रतिज्ञा लेते हुए कार्यक्रम में प्रतिभाग किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed