कोरोना महामारी के बीच इमली रोड की शेखबिंचा मस्जिद में 15वे दिन बड़े ही सादगी के साथ पूरी हुई तरावी की नमाज़

Spread the love

(दिलशाद खान)

(न्यूज़ रुड़कीं)  कोविड 19 महामारी के बीच रुड़कीं के इमली रोड स्थित शेखबिंचा मस्जिद में तरावी की नमाज़ बड़ी ही सादगी के साथ पूरी हुई।

कोरोना महामारी और सरकार की गाईडलाईन का पालन कराते हुए शेखबिंचा मस्जिद कमेटी द्वारा मस्जिद में दाखिल होने वाले नमाज़ियों के लिये सेनीटाइज़ मशीन और मास्क का इंतेज़ाम करते हुए सोशल डिस्टेंस का भी खास ध्यान रखा गया ।  कोरोना महामारी के चलते शेख बिंचा मस्जिद व शहर की सभी मस्जिदों में 15 दिन में ही तरावी की नमाज़ पूरी कराई गयी।

डॉ कौसर ने तरावी की नमाज़ पूरी होने के बाद  विश्व से जल्द कोरोना बीमारी खत्म करने की दुआ करायी ।डॉ.कौसर ने बताया अब होने वाली नमाज़ में कम समय लगेगा जिसमे उन्होंने सभी से अपील की आगे भी सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखते हुए और मास्क लगाकर नमाज़ अदा करे और सरकार की गाईडलाईन का पालन करे। शेख बिंचा मस्जिद के इमाम मौलाना यूसुफ लंबे समय से मस्जिद में नमाज़ पढ़ा रहे है रमज़ान के महीने में मौलाना यूसुफ बेहद अलग ही अंदाज से तरावी की नमाज़ पढ़ाते है यही वजह है उनके पीछे नमाज़ पढ़ने के लिये दूर दूर से लोग आते है।

वही पिछले लंबे से शेखबिंचा मस्जिद में नमाज़ अदा कर रहे नमाज़ी शुजावर खान ने बताया मस्जिद के इमाम मौलाना यूसुफ का नमाज़ पढ़ाने का अलग ही अंदाज़ है। रमज़ान में होने वाली तरावी की नमाज़ वो बड़े ही तफसील से पढ़ाते है। सुजावर ने बताया  यही वजह है जो वो हर साल रमज़ान में इसी मस्जिद में तरावी की नमाज़ पढ़ने आते है। मस्जिद के इमाम मौलाना यूसुफ ने बताया  माहे रमजान में तरावी की नमाज का विशेष महत्व है यह नमाज रमजान के महीने में ही पढ़ी जाती है जो रमजान शरीफ का चांद दिखने से लेकर ईद का चांद दिखने तक हर रोज पढ़ी जाती है। तरावी की नमाज ईशा की नमाज के बाद होती है जिसमें सभी नमाज़ी देश में अमन सलामती व  रोजगार आदि के लिए दुआ मांगते हैं।

मौलाना यूसुफ ने बताया कोरोना महामारी के चलते इस बार तरावी की नमाज में बदलाव किया गया है   कोरोना महामारी को देखते हुए तरावी की नमाज 15 वे दिन में शेखबिंचा मस्जिद में पूरी हो गई जिसमें सोशल डिस्टेंस और मास्क व सेनीटाइज़ का विशेष ध्यान रखा गया । इस बार नमाजियों ने सरकार की गाइडलाइंस का पालन करते हुए  तरावी की नमाज़ पूरी की।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed